Skip to main content

200+ Best Shayari On Nafrat 2020

Best Shayari On Nafrat

We have a large collection of 200+ Shayari On Nafrat for those who are broken and going through bad time. These can be sent to someones and those that you have feelings for someone , in the collection below you will find shayarithat can be classified as Punjabi love shayari, beautiful hindi love shayari, best love shayari in hindi.

Shayari On Nafrat

बैठ कर सोचते हैं अब कि क्या खोया क्या पाया,
उनकी नफरत ने तोड़े बहुत मेरी वफ़ा के घर।



वो नफरतें पाले रहे हम प्यार निभाते रहे,
लो ये जिंदगी भी कट गयी खाली हाथ सी।



नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार से,
अगर मैं तेरे ही अंदाज में तुझसे बात करुं।



जरूरत है मुझे नये नफरत करने वालों की,
पुराने तो अब मुझे चाहने लगे है।

Shayari On Nafrat


मुझसे नफरत की अजब राह निकली उसने,
हँसता बसता दिल कर दिया खाली उसने,
मेरे घर की रिवायत से वोह खूब था वाकिफ,
जुदाई माँग ली बन के सवाली उसने।



उसने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया,
कितने रिश्ते उसकी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ,
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है,
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ।



कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था,
सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,
सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है,
जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था।


न मोहब्बत संभाली गई, न नफरतें पाली गईं,
अफसोस है उस जिंदगी का, जो तेरे पीछे खाली गई।



ज्यादा कुछ नहीं बदला, उनके और मेरे बीच में,
पहले नफरत नहीं थी, अब मोहब्बत नहीं हैं।



देख कर उसको तेरा यूँ पलट जाना,
नफरत बता रही है तूने मोहब्बत गज़ब की की थी।



नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं,
जब भी मिलते है कहते हैं कि तुझे छोड़ेंगे नहीं।



नफरतों के बाजार में जीने का अलग ही मजा है
वो लोग रुलाना नहीं छोड़ते और हम हंसाना नहीं छोड़ते



ये नफरत बयाँ कर रही है
कि मोहब्बत गज़ब की थी..



खुदा सलामत रखे उनको
जो हमसे नफरत करते है
प्यार ना सही
नफरत ही सही
कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे ही करते है…

Shayari On Nafrat


एक नफरत ही तो है जिसे दुनिया चंद लम्हों में जान लेती है,
वर्ना
मोहब्बत का यकीन दिलाने में तो जिंदगी बित जाती है….



हम से प्यार करो या नफरत
वो तुम्हारे इरादे की बात है…
प्यार करोंगे तो दिल में रहोगे
लेकिन
नफरत करोंगे तो दिमाग में..



उनकी नफरत पर भी लुटा हमने जिंदगी
सोचो अगर वो मोहब्बत करते तो हम क्या करते…



नफरत तभी करना मुझसे जब तुम मेरे बारे में जानते हो…
तब नहीं जब किसी से सुना हो…



अगर कोई हमें बेपनाह मोहब्बत कर सकता है
तो
नफरत भी उतनी ही कर सकता है,
क्योंकि….
एक खुबसुरत शीशा जब कभी भी तुटता है
तो
वह एक खतरनाक हथियार बन जाता है…



नफरत एक बहुत बड़ा रोग है
इसलिए दुआ है,
जो भी मुझसे नफरत करते है
वो जल्द ही ठीक हो जाये
Get Well Soon


इतना भी प्यार किस काम का….
भूलना भी चाहो तो नफरत की हद्द तक जाना पड़े…



तेरी नफ़रत मे वो दम कहाँ..,
जो मेरी चाहत को कम कर दे.


नफ़रत हो जायेगी तुझे अपने ही किरदार पे….
अगर में तेरे हि अंदाज मे तुझसे बात करुं…


इतनी शिद्दत से वो हि नफरत कर सकता है..
जिसने प्यार भी उतनी शिद्दत से किया हो…



वोह आज भी कहती है दीवाना मुज़े,
जिसको मेरी दिल्लगी से नफरत थी…



मै खुश हू कि उसकी नफ़रत का अकेला वारिस हू,
वरना मोहब्बत तो उसे कई लोगो से है…


आज उसने बहुत अजीब सी बात कही ….
तुम जिन्दगी हो मेरी और मुझे जिन्दगी से नफरत है…!!!



गुजरे हैं इश्क़ में हम इस मुकाम से 
नफरत सी हो गई है मोहब्बत के नाम से 
हम वह नहीं जो मोहब्बत में रो कर के 
जिंदगी को गुजार दे... 
अगर परछाई भी तेरी नजर आ जाए 
तो उसे भी ठोकर मार दें।



तेरी नफरतों को प्यार की खुशबु बना देता, 
मेरे बस में अगर होता तुझे उर्दू सीखा देता।


नफरत करने वाले भी गज़ब का प्यार करते हैं मुझसे, 
जब भी मिलते है कहते हैं कि तुझे छोड़ेंगे नहीं ।


देख कर उसको तेरा यूँ पलट जाना 
नफरत बता रही है... 
तूने मोहब्बत गज़ब की की थी।


वो वक़्त गुजर गया... जब मुझे तेरी आरज़ू थी, 
अब तू खुदा भी बन जाए तो मैं सज़दा न करूँ।


दिल में प्यार का आगाज हुआ करता है,
बातें करने का अंदाज हुआ करता है,
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती,
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है!


कश्ती के मुसाफिर ने समन्दर नहीं देखा,
आँखों को देखा पर दिल मे उतर कर नहीं देखा,
पत्थर समझते है मेरे चाहने वाले मुझे,
हम तो मोम है किसी ने छूकर नहीं देखा।



कितना दूर निकल गए रिश्ते निभाते निभाते,
खुद को खो दिया हमने अपनों को पाते पाते,
लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में,
और हम थक गये मुस्कुराते मुस्कुराते.


Best Nafrat Ki Shayari

Best Nafrat Ki Shayari


​तुझे देखे बिना तेरी तस्वीर बना सकता हूँ,
तुझसे मिले बिना तेरा हाल बता सकता हूँ,
है मेरी दोस्ती में इतना दम,
तेरी आँख का आँसू आपनी आँख से गिरा सकता हूँ।



फ़िज़ा में ज़हर भरा है जरा संभल कर चलो,
मुखालिफ आज हवा है जरा संभल कर चलो,
कोई देखे न देखे बुराइयां अपनी..
खुदा तो देख रहा है जरा संभल कर चलो।



तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ,
जिन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ,
मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह,
तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ।

Best Nafrat Ki Shayari


आज हम हैं, कल हमारी यादें होंगी,
जब हम ना होंगे, तब हमारी बातें होंगी,
कभी पलटो गे जिंदगी के ये पन्ने..
तो शायद आप की आँखों से भी बरसातें होंगी।


मुस्कराहट का कोई मोल नहीं होता,
कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता,
लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर..
हर कोई आप सब की तरह अनमोल नहीं होता!

Best Nafrat Ki Shayari



खामोश चेहरे पर हजार पहरे होते है,
हंसती आंखों में भी जख्म गहरे होते है,
जिनसे अक्सर रूठ जाते है हम,
असल में उनसे ही रिश्ते गहरे होते है

Hate Shayari


hate shayari

मुस्कुराते पलको पे सनम चले आते हैं,
आप क्या जानो कहाँ से हमारे गम आते हैं,
आज भी उस मोड़ पर खड़े हैं,
जहाँ किसी ने कहा था कि ठहरो हम अभी आते है।



दिल पे क्या गुज़री वो अनजान क्या जाने,
प्यार किसे कहते है वो नादान क्या जाने,
हवा के साथ उड़ गया घर इस परिंदे का..
कैसे बना था.. घोसला वो तूफान क्या जाने।

hate shayari


ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा,
मैं खुद तन्हा रहा पर दिल को तन्हा नहीं रखा,
तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज रखे हैं,
तुम्हारी नफरतों की पीड़ को जिंदा नहीं रखा!



नदी जब किनारा छोर देती हैं,
राह की चट्टान तक तोर देती हैं,
बात छोटी सी अगर चुभ जाए दिल में तो,
जिंदगी के रास्तों को भी मोर देती हैं।

hate shayari


दुआओ पे हमारे ऐतबार रखना,
दिल में अपने ना कोई सवाल रखना,
देना चाहते हो अगर खुशिया हमें,
तो बस आप खुश रहना और अपना ख्याल रखना।



ऐ दोस्त जब भी तू उदास होगा,
मेरा ख्याल तेरे आस-पास होगा,
दिल की गहराईयों से जब भी करोगे याद हमें,
तुम्हें.. हमारे करीब होने का एहसास होगा।


Nafrat Quotes


Nafrat Quotes


कोशिश न कर तू सभी को ख़ुश रखने की,
नाराज तो यहाँ कुछ लोग भगवान से भी हैं,
मन की बात कह देने से फैसले हो जाते हैं,
और मन में रख लेने से फासले हो जाते हैं!



जब भी करीब आता हूँ बताने के लिये,
जिंदगी दूर रखती हैं सताने के लिये,
महफ़िलों की शान न समझना मुझे,
मैं तो अक्सर हँसता हूँ गम छुपाने के लिये।



एक दिन जब उम्र ने तलाशी ली,
तो जेब से लम्हे बरामद हुए..
कुछ ग़म के थे, कुछ नम से थे कुछ टूटे हुए थे,
बस कुछ ही सही सलामत मिले.. जो बचपन के थे!!

Nafrat Quotes


कभी किसी से प्यार मत करना दोस्तों,
हो जाये तो इंकार मत करना,
चल सको तो चलना उस राह पर,
वरना किसी की ज़िन्दगी ख़राब मत करना।


यादों की किम्मत वो क्या जाने,
जो ख़ुद यादों के मिटा दिए करते हैं,
यादों का मतलब तो उनसे पूछो जो,
यादों के सहारे जिया करते हैं।

Nafrat Quotes



माना की तुम जीते हो ज़माने के लिये,
एक बार जी के तो देखो हमारे लिये,
दिल की क्या औकात आपके सामने,
हम तो जान भी दे देंगे आपको पाने के लिये!



गुजारिश हमारी वह मान न सके,
मज़बूरी हमारी वह जान न सके,
कहते हैं मरने के बाद भी याद रखेंगे,

Nafrat Quotes

Love Nafrat Shayari


खुश नसीब होते हैं बादल,
जो दूर रहकर भी ज़मीन पर बरसते हैं,
और एक बदनसीब हम हैं,
जो एक ही दुनिया में रहकर भी.. मिलने को तरसते हैं.



हमसे पूछो क्या होता है पल पल बिताना,
बहुत मुश्किल होता है दिल को समझाना,
यार ज़िन्दगी तोह बीत जायेगी,
बस मुश्किल होता है कुछ लोगो को भूल पाना।

love nafrat shayari


प्यार क्या होता है हम नहीं जानते,
ज़िन्दगी को हम अपना नहीं मानते,
गम इतने मील के एहसास नहीं होता,
कोई हमें प्यार करे अब विश्वास नहीं होता.



कशिश तोह बहुत है मेरे प्यार मैं,
लेकिन कोई है पत्थर दिल जो पिघलाता नहीं,
अगर मिले खुद तो माँगूंगी उसको,
सुना है ख़ुदा मरने से पहले मिलते नहीं.

love nafrat shayari


सुकून अपने दिलका मैंने खो दिया,
खुद को तन्हाई के समंदर मे डुबो दिया,
जो थी मेरे कभी मुस्कराने की वजह,
आज उसकी कमी ने मेरी पलकों को भिगो दिया.



ना मिलता गम तो बर्बादी के अफसाने कहाँ जाते,
दुनिया अगर होती चमन तो वीराने कहाँ जाते,
चलो अच्छा हुआ अपनों में कोई ग़ैर तो निकला,
सभी अगर अपने होते तो बेगाने कहाँ जाते।

love nafrat shayari


हस्ती मिट जाती है आशियाँ बनाने मे,
बहुत मुस्किल होती है अपनो को समझाने मे,
एक पल मे किसी को भुला ना देना,
ज़िंदगी लग जाती है किसी को अपना बनाने मे..

Nafrat Shayari In Hindi

nafrat shayari in hindi


एक दिन जब हम दुनिया से चले जायेंगे,
मत सोचना आपको भूल जायेंगे,
बस एक बार आसमान की तरफ़ देख लेना,
मेरे आँसू बारिश बनके बरस जायेंगे.



आप से दूर हो कर हम जायेंगे कहा,
आप जैसा दोस्त हम पाएंगे कहा,
दिल को कैसे भी संभाल लेंगे,
पर आँखों के आंसू हम छुपायेंगे कहा.



तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं,
तुझको नहीं और अब खोना चाहता हूँ मैं,
अकेले इस तनहाई का दर्द बर्दाश्त नहीं होता,
तू एक बार आजा तुझसे लिपट कर रोना चाहता हूँ मैं..

nafrat shayari in hindi


नफरत को हम प्यार देते है,
प्यार पे खुशियाँ वार देते है,
बहुत सोच समझकर हमसे कोई वादा करना..
ऐ-दोस्त.. हम वादे पर जिदंगी गुजार देते है!!



पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो,
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं!


उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है!

nafrat shayari in hindi


तुझको पा कर भी न कम हो सकी बेताबी दिल की,
इतना आसान तेरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं।


ग़म किस को नहीं तुझको भी है मुझको भी है,
चाहत किसी एक की तुझको भी है मुझको भी है।


जब तक अपने दिल में उनका गम रहा,
हसरतों का रात दिन मातम रहा,
हिज्र में दिल का ना था साथी कोई,
दर्द उठ-उठ कर शरीके-गम रहा।



सुन कर तमाम रात मेरी दस्ताने-ग़म,
वो मुस्कुरा के बोली बहुत बोलते हो तुम।

nafrat shayari in hindi


दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है,
वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से।



खुश्क आँखों से भी अश्कों की महक आती है,
मैं तेरे गम को ज़माने से छुपाऊं कैसे।



इलाही उनके हिस्से का भी गम मुझको अता कर दे,
कि उन मासूम आँखों में नमी देखी नहीं जाती।



यह गम के दिन भी गुजर जायेंगे यूं ही,
जैसे वह राहतों के जमाने गुजर गए।

nafrat shayari in hindi


रंजो-ग़म इश्क के गुजर भी गए,
अब तो वो दिल से उतर भी गए।


दो कदम तो सभी चल लेते हैं पर,
ज़िन्दगी भर साथ कोई नहीं निभाता,
अगर रो कर भुला सकते यादें,
तो हँस कर कोई अपने गम न छुपाता।


nafrat shayari in hindi

अगर वो पूछ लें हमसे कहो किस बात का ग़म है,
तो फिर किस बात का ग़म है अगर वो पूछ लें हमसे।



झूठ कहते हैं लोग कि मोहब्बत सब कुछ छीन लेती है,
मैंने तो मोहब्बत करके ग़म का खजाना पा लिया।


ग़म नहीं ये कि क़सम अपनी भुलाई तुमने,
ग़म तो ये है कि रकीबों से निभाई तुमने,
कोई रंजिश थी अगर तुमको तो मुझसे कहते,
बात आपस की थी क्यूँ सब को बताई तुमने।

nafrat shayari in hindi


जब भी ठोकर लगी तेरे प्यार में मुझे,
मुझको मेरे गमों ने सहारा बहुत दिया।


खुशियों की चाह थी वहां बे-हिसाब ग़म निकले,
बेवफा तू नहीं सनम बद-नसीब तो हम निकले।



बिछड़ गए हैं जो उनका साथ क्या मांगू,
ज़रा सी उम्र बाकी है इस गम से निजात क्या मांगू,
वो साथ होते तो होती ज़रूरतें भी हमें,
अपने अकेले के लिए कायनात क्या मांगू।



किसे सुनाएँ अपने गम के चन्द पन्नो के किस्से
यहाँ तो हर शख्स भरी किताब लिए बैठा है।


गम तो है हर एक को, मगर हौंसला है जुदा- जुदा,
कोई टूट कर बिखर गया कोई मुस्कुरा के चल दिया।



लोग पढ़ लेते है आँखों से मेरे दिल की बात,
अब मुझसे तेरे गम की हिफाजत नहीं होती।


nafrat shayari in hindi


तेज रफ़्तार जिंदगी का ये आलम है दोस्तों, 
सुबह के गम भी शाम को पुराने लगते हैं।



सिर्फ जिंदा रहने को जिंदगी नहीं कहते, 
कुछ गमे-मोहब्बत हो कुछ गमे-ज़हान हो।



उड़ता हुआ गुबार सर-ए-राह देख कर, 
अंजाम हमने इश्क़ का सोचा तो रो दिए, 
बादल फिजा में आप की तस्वीर बन गए, 
साया कोई ख्याल से गुजरा तो रो दिए।



दिल पे आए हुए इल्ज़ाम से पहचानते हैं, 
लोग अब मुझ को तेरे नाम से पहचानते हैं।



एक हसरत थी सच्चा प्यार पाने की, 
मगर चल पड़ी आँधियां जमाने की, 
मेरा ग़म तो कोई ना समझ पाया, 
क्यूंकि मेरी आदत थी सबको हँसाने की।



तुझको पा कर भी न कम हो सकी मेरी बेताबी, 
इतना आसान तेरे इश्क़ का ग़म था ही नहीं।



आँसुओं से जिनकी आँखें नम नहीं, 
क्या समझते हो कि उन्हें कोई गम नहीं? 
तड़प कर रो दिए गर तुम तो क्या हुआ, 
गम छुपा कर हँसने वाले भी कम नहीं।



क्या खूब दिखाया दुनिया ने अपना रंग, 
हम रंग भरते भरते खुद बे-रंग हो गए।



उनकी एक नज़र को हम तरसते रहेंगे, 
ग़म के आँसू हर पल यूँ ही बरसते रहेंगे, 
कभी बीते थे कुछ पल उनके साथ, 
बस यही सोच कर हम हँसते रहेंगे।



एक तेरे चले जाने के बाद से हमें, 
किसी का भी यहाँ ऐतबार न रहा, 
और किसी से तो क्या करेंगे मोहब्बत, 
जब अपनी ही जिंदगी से प्यार न रहा।



क्या जाने किसको किससे है 
अब दाद की तलब, 
वह ग़म जो मेरे दिल में है 
तेरी नज़र में है।



फिर तेरा चर्चा हुआ, आँखें हमारी नम हुई, 
धड़कनें फिर बढ़ गई, साँस फिर बेदम हुई, 
चाँदनी की रात थी, तारों का पहरा भी था, 
इसीलिये शायद गम की आतिशबाजी कम हुई।



जहाँ भी देखा गम का साया, 
तू ही तू मुझको याद आया, 
ख्वाबों की कलियाँ जब टूटी, 
ये गुलशन लगने लगा पराया, 
दरिया जब जब दिल से निकला, 
एक समंदर आँखों में समाया, 
मेरे दामन में कुछ तो देते, 
यूँ तो कुछ नहीं माँगा खुदाया।



वफ़ा के शीशमहल में सजा लिया मैनें, 
वो एक दिल जिसे पत्थर बना लिया मैनें, 
ये सोच कर कि न हो ताक में ख़ुशी कोई, 
गमों की ओट में खुद को छुपा लिया मैनें, 
कभी न ख़त्म किया मैंने रोशनी का मुहाज़, 
अगर चिराग बुझा तो दिल जला लिया मैनें, 
कमाल ये है कि जो दुश्मन पे चलाना था, 
वो तीर अपने ही कलेजे पे खा लिया मैनें।



दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है, 
वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से।


आधी से ज्यादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ, 
अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है।



बदन में आग सी है चेहरा गुलाब जैसा है, 
कि ज़हर-ए-ग़म का नशा भी शराब जैसा है, 
इसे कभी कोई देखे कोई पढ़े तो सही, 
दिल आइना है तो चेहरा किताब जैसा है।



ये कैसा सिलसिला है, तेरे और मेरे दरमियाँ, 
फ़ासले भी बहुत हैं और मोहब्बत भी।



महफ़िल में हँसना हमारा मिजाज बन गया, 
तन्हाई में रोना एक राज बन गया, 
दिल के दर्द को चेहरे से जाहिर न होने दिया, 
बस यही जिंदगी जीने का अंदाज बन गया।


जब भी करीब आता हूँ बताने के किये, 
जिंदगी दूर रखती हैं सताने के लिये, 
महफ़िलों की शान न समझना मुझे, 
मैं तो अक्सर हँसता हूँ गम छुपाने के लिये.



इलाही उनके हिस्से का भी गम मुझको अता कर दे, 
कि उन मासूम आंखों में नमी देखी नहीं जाती।



चाहत तो हर किसी की पूरी नहीं होती, 
ग़मों के बिना जिन्दगी आशा नहीं होती, 
कुछ लोग तो बीच मे ही साथ छोड़ देते हैं, 
पर बिना किसी के ज़िंदगी अधूरी नहीं होती।


चाहा था मुक्कमल हो मेरे गम की कहानी, 
मैं लिख ना सका कुछ भी, तेरे नाम से आगे।



और कोई गम नहीं एक तेरी जुदाई के सिवा, 
मेरे हिस्से में क्या आया तन्हाई के सिवा, 
यूँ तो मिलन की रातें मिली बेशुमार, 
प्यार में सब कुछ मिला शहनाई के सिवा.


राहत मिली ना दिल को, 
ना चैन-ओ-सकून मिला, 
बारिस भी होती रही रातभर, 
और कमबख्त दिल भी जलता रहा।



निकल आते हैं आंसू हंसते हंसते 
ये किस गम की कसक है हर खुशी में।।



किसे सुनाएँ अपने गम के 
चन्द पन्नो के किस्से... 
यहाँ तो हर शख्स 
भरी किताब लिए बैठा है l



गम तो है हर एक को, 
मगर हौंसला है जुदा- जुदा, 
कोई टूट कर बिखर गया, 
कोई मुस्कुरा के चल दिया ।


शायरों की बस्ती में कदम रखा तो जाना, 
गमों की महफिल भी कमाल जमती है।


मेरे ग़म ने होश उनके भी खो दिए... 
वो समझाते समझाते खुद ही रो दिए।



वो सूरज की तरह आग उगलते रहे, 
हम मुसाफिर सफ़र पे ही चलते रहे, 
वो बीते वक़्त थे, उन्हें आना न था, 
हम सारी रात करवट बदलते रहे।



ऐसा नहीं के तेरे बाद अहल-ए-करम नहीं मिले, 
तुझ सा नहीं मिला कोई, लोग तो कम नहीं मिले, 
एक तेरी जुदाई के दर्द की बात और है, 
जिनको न सह सके ये दिल, ऐसे तो गम नहीं मिले।



तेरी हालत से लगता है 
तेरा अपना था कोई, 
वरना... 
इतनी सादगी से बरबाद 
कोई गैर नहीं करता ।


लोग पढ़ लेते है आँखों से मेरे दिल की बात... 
अब मुझसे तेरे गम की हिफाजत नहीं होती ।


हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले, 
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले, 
है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कुसूर इसमें, 
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।



माँगने से मिल सकती नहीं हमें एक भी ख़ुशी, 
पाये हैं लाख रंज तमन्ना किये बगैर..।।



ज़िंदगी है बड़ी नादान इसलिए चुप हूँ,
दर्द ही दर्द सुबह शाम इसलिए चुप हूँ,
कहो तो कह दूं ज़माने से दास्तान अपनी,
उसमे आएगा तुम्हारा नाम इसलिए चुप हूँ..



वो कह कर गया था मैं लौटकर आउंगा,
मैं इंतजार ना करता तो क्या करता,
वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से,
मैं एतबार ना करता तो क्या क्या करता..

Sent By : 

कहाँ कोई ऐसा मिला जिस पर हम दुनिया लुटा देते,
हर एक ने धोखा दिया, किस-किस को भुला देते,
अपने दिल का ज़ख्म दिल में ही दबाये रखा,
बयां करते तो महफ़िल को रुला देते..

Sent By : 

उड़ता हुआ गुबार सर-ए-राह देख कर,
अंजाम हमने इश्क़ का सोचा तो रो दिए,
बादल फिजा में आप की तस्वीर बन गए,
साया कोई ख्याल से गुजरा तो रो दिए।

Sent By : 

हम रूठे तो किसके भरोसे,
कौन आएगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है, तरस आ भी जाए आपको,
पर दिल कहाँ से लाये..आप से रूठ जाने के लिए.

Sent By : 

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता|

Sent By : 

दिल का हर राज दे दिया उनको मैहरबान समझ कर,
लगाया मौत को गले से हमने,उनका फरमान समझ,कर ,
वो नादान क्या जाने मेरी दीवानगी कि हद को,
कि हर सितम को सहा है हमने उसका अहसान समझकर|

Sent By : 

हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला,
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,
हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला|

Sent By : 

उस मोड़ से शुरू करें
चलो फिर से जिंदगी
हर शय हो जहाँ नई सी
और हम हो अज़नबी



मुझे को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही,
आई ज़िंदगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उस के इंतेज़ार के वो जलते दिए,
कहीं भी आस-पास उस की आहट नहीं रही|


उसे उड़ने का शौक था..
और हमें उसके प्यार की कैद पसंद थी..
वो शौक पूरा करने उड़ गयी जो..
आखिरी सांस तक साथ देने को रजामंद थी|


हर भूल तेरी माफ़ की..
हर खता को तेरी भुला दिया..
गम है कि, मेरे प्यार का..
तूने बेवफा बनके सिला दिया|



क्यूँ करते हो मुझसे
इतनी ख़ामोश मुहब्बत..
लोग समझते है
इस बदनसीब का कोई नहीँ..

Sent By : 

तू नहीं तो ये नज़ारा भी बुरा लगता है..
चाँद के पास सितारा भी बुरा लगता है..
ला के जिस रोज़ से छोड़ा है तुने भवँर में मुझको..
मुझको दरिया का किनारा भी बुरा लगता है..

Sent By : 

सिलसिला उल्फत का चलता ही रह गया,
दिल चाह में दिलबर के मचलता ही रह गया,
कुछ देर को जल के शमां खामोश हो गई,
परवाना मगर सदियों तक जलता ही रह गया..!!

Sent By : 

रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बह रहे हैं हल्के हल्के,
कुछ तो मजबूरी थी कुछ तेरी बेवफाई|



इंसानों के कंधे पर इंसान जा रहे हैं,
कफ़न में लिपट कर कुछ अरमान जा रहे हैं,
जिन्हें मिली मोहब्बत में बेवफ़ाई,
वफ़ा की तलाश में वो कब्रिस्तान जा रहे हैं।


उनसे मिलने को जो सोचों अब वो ज़माना नहीं,
घर भी कैसे जाऊं अब तो कोई बहाना नहीं,
मुझे याद रखना कहीं तुम भुला न देना,
माना के बरसों से तेरी गली में आना-जाना नहीं।


मुझको ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई गिला नहीं,
और कितने आंसू बहाऊँ उस के लिए,
जिसको खुदा ने मेरे नसीब में लिखा ही नहीं।


तेरे रोने से उन्हें कोई
फर्क नहीं पड़ता ऐ दिल
जिनके चाहने वाले ज्यादा हो
वो अक्सर बे दर्द हुआ करते हैं



नया दर्द एक और दिल में जगा कर चला गया,
कल फिर वो मेरे शहर में आकर चला गया,
जिसे ढूंढ़ता रहा मैं लोगों की भीड़ में,
मुझसे वो अपने आप को छुपा कर चला गया।



तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है,
जिसका रास्ता बहुत खराब है,
मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा न लगा,
दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है।

Sent By : 

देख कर मेरा नसीब मेरी तक़दीर रोने लगी,
लहू के अल्फाज़ देख कर तहरीर रोने लगी,
हिज्र में दीवाने की हालत कुछ ऐसी हुई,
सूरत को देख कर खुद तस्वीर रोने लगी।



बेताब से रहते हैं उसकी याद में अक्सर,
रात भर नहीं सोते हैं उसकी याद में अक्सर,
जिस्म में दर्द का बहाना सा बना कर,
हम टूट कर रोते हैं उसकी याद में अक्सर।



खुद को कुछ इस तरह तबाह किया,
इश्क़ किया क्या ख़ूबसूरत गुनाह किया,
जब मुहब्बत में न थे तब खुश थे हम,
दिल का सौदा किया बेवजह किया|


समेट कर ले जाओ..
अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से..
अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर..
इनकी ज़रूरत पड़ेगी।

Sent By : 

मोहब्बत की तलाश मैं निकले हो तुम
अरे ओ पागल…
मोहब्बत खुद तलाश करती है…
जिसे बर्बाद करना हो|

Sent By : 

खामोशी से बिखरना आ गया है,
हमें अब खुद उजड़ना आ गया है,
किसी को बेवफा कहते नहीं हम,
हमें भी अब बदलना आ गया है,
किसी की याद में रोते नहीं हम,
हमें चुपचाप जलना आ गया है,
गुलाबों को तुम अपने पास ही रखो,
हमें कांटों पे चलना आ गया है|


सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली,
एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली,
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर,
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।



मज़बूरी में जब कोई जुदा होता है,
ज़रूरी नहीं कि वो बेवफ़ा होता है,
देकर वो आपकी आँखों में आँसू,
अकेले में वो आपसे ज्यादा रोता है।



उल्फत का यह दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही हमसे दूर होता है,
दिल टूट कर बिखरता है इस क़द्र जैसे,
कांच का खिलौना गिरके चूर-चूर होता है!

Sent By : 

जो नजर से गुजर जाया करते हैं,
वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं,
कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,
बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं।


तू तो हँस हँसकर जी रही है,
जुदा होकर भी..
कैसे जी पाया होगा वो,
जिसने तेरे सिवा जिन्दगी कभी सोची ही नहीं..



चलो हम गलत थे ये मान लेते है..
ऎ जिंदगी..
पर एक बात बता.. क्या वो शख्स सही था
जो बदल गया इतना.. करीब आने के बाद!!



हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने|



तूने नफ़रत से जो देखा है तो याद आया,
कितने रिश्ते तेरी ख़ातिर यूँ ही तोड़ आया हूँ,
कितने धुंधले हैं ये चेहरे जिन्हें अपनाया है,
कितनी उजली थी वो आँखें जिन्हें छोड़ आया हूँ।


रोज़ आता है मेरे
दिल को तस्सली देने
ख़याल ऐ यार को
मेरा खयाल कितना है



रहते हैं आस-पास ही
लेकिन साथ नहीं होते…
कुछ लोग जलते हैं मुझसे
बस खाक नहीं होते|


मुझे कुछ अफ़सोस नहीं के मेरे पास
सब कुछ होना चाहिए था,
मै उस वक़्त भी मुस्कुराता था..
जब मुझे रोना चाहिए था|


पहले इश्क़,
फिर दर्द,
फिर बेहद नफरत,
बड़ी तरकीब से तबाह…..
किया तुमने मुझको!!


आंसुओं की बूँदें हैं या आँखों की नमी है
न ऊपर आसमां है न नीचे ज़मी है
यह कैसा मोड़ है ज़िन्दगी का
उसी की ज़रूरत है और उसी की कमी है



हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले,
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले,
है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कुसूर इसमें,
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।


ठोकर ना लगा मुझे पत्थर नही हूँ मैं,
हैरत से ना देख कोई मंज़र नही हूँ मैं,
उनकी नज़र में मेरी कदर कुछ भी नही,
मगर उनसे पूछो जिन्हें हासिल नही हूँ मैं|



जिन्हीने बदली थी हमारे ख्वाइशों की जिंदगी..
आज वहो बदले बदले नज़र आते है..
उड़ गए उन परिंदों का मलाल क्या करे..
जब अपने भी औरो की छत पर नज़र आते है..
रातो के ख्वाबो का इंतजार क्या करू..
जब दिन मै भी डरावने सपने आत्ते है..


एक अरसा बीत गया..खुलकर मुस्कुराए हुए..
एक अरसा बीत गया..गीत कोई गाए हुए..
मेरी नज़रों को तेरा इन्तज़ार आज भी है..
एक अरसा बीत गया..कोई रिश्ता नया बनाए हुए..


इस दिल को किसी की आहट की आस रहती है,
निगाह को किसी सूरत की प्यास रहती है,
तेरे बिना जिन्दगी में कोई क मी तो नही,
फिर भी तेरे बिना जिन्दगी उदास रहती है॥


दुनिया में तेरे इश्क़ का चर्चा ना करेंगे,
मर जायेंगे लेकिन तुझे रुस्वा ना करेंगे,
गुस्ताख़ निगाहों से अगर तुमको गिला है,
हम दूर से भी अब तुम्हें देखा ना करेंगे।



एक अजीब सा मंजर नज़र आता है,
हर एक आँसूं समंदर नज़र आता हैं,
कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना,
हर किसी के हाथ मैं पत्थर नज़र आता हैं|



तन्हा रहना तो सीख लिया हमने,
लेकिन खुश कभी ना रह पाएंगे,
तेरी दूरी तो फिर भी सह लेता ये दिल,
लेकिन तेरी मोहब्बत के बिना ना जी पाएंगे.



एक अजीब दास्तान है मेरे अफसाने की..
मैने पल पल कोशिश उसके की पास जाने की,
किस्मत थी मेरी या साजिश थी ज़माने की,
दूर हुई मुझसे इतना जितनी उमीद थी करीब आने की.



मेरी वफ़ा की कदर ना की,
अपनी पसंद पे तो ऐतबार किया होता,
सुना है वो उसकी भी ना हुई,
मुझे छोड दिया था उसे तो अपना लिया होता|



गम इस बात का नही कि तुम बेवफा निकली,
मगर अफ़सोस ये है कि,
वो सब लोग सच निकले,
जिनसे मैं तेरे लिए लड़ा करता था!


तेरे दर्द पर रोता हूँ आज भी,
तू बेदर्द हो गयी ज़माने से,
क्या कमी रह गयी मेरी मुहब्बत मे,
ये जिन्दगी बीत न जाये सुलझाने मे|



तुमको देखा एक नजर हमने होश पा लिया,
अपनी पलकों में तेरा आगोश पा लिया,
हम दर्द को पीते हैं तेरा दर्द समझकर,
आंखो ने छलकने का जोश पा लिया|



नफ़रत कभी ना करना तुम हमसे,
यह हम सह नहीं पायेंगे,
एक बार कह देना हमसे, ज़रूरत नहीं अब तुम्हारी,
तुम्हारी दुनियाँ से हंसकर चले जायेंगे!


टूटे हुए प्याले में जाम नहीं आता,
इश्क़ में मरीज को आराम नहीं आता,
ये बेवफा दिल तोड़ने से पहले ये सोच तो लिया होता,
की टुटा हुआ दिल किसी के काम नहीं आता !!



इस उम्मीद से मत फिसलो,
कि तुम्हें कोई उठा लेगा,
सोच कर मत डूबो दरिया में,
कि तुम्हें कोई बचा लेगा…
ये दुनिया तो एक अड्डा है,
तमाशबीनों का दोस्तों…
गर देखा तुम्हें मुसीबत में तो,
यहां हर कोई मज़ा लेगा…


इतनी बेचैनी से तुमको किसकी तलाश है,
वो कौन है जो तेरी आंखों की प्यास है,
जबसे मिला हूं तुमसे यही सोचता हूं मैं,
क्यों मेरे दिल को हो रहा तेरा एहसास है,
जिंदगी के इस मोड़ पे तुम आके यूं मिले,
जैसे कि कोई मंजिल मेरे इतने पास है,
एक नजर की आस में तकता हूं मैं तुझे,
अब देख तेरे खातिर एक आशिक उदास है|


जहां भी देखा गम का साया,
तू ही तू मुझको याद आया,
ख्वाबों की कलियां जब टूटी,
ये गुलशन लगने लगा पराया,
दरिया जब-जब दिल से निकला,
एक समंदर आंखों में समाया,
मेरे दामन में कुछ तो देते,
यूं तो कुछ नहीं मांगा खुदाया|



कौन कहता है की दिल..
सिर्फ लफ्जों से दुखाया जाता है,
तेरी ख़ामोशी भी कभी कभी..
आँखें नाम कर देती है.



उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह,
तीर जब लग गई तो कोई भी मरहम न हुआ,
देख लेना था मुझे भी हर सितम की अदा,
ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ.



किस्मत ने जैसा चाहा वैसे ढल गए हम,
बहुत संभल के चले फिर भी फिसल गए हम,
किसी ने विश्वास तोडा तो किसी ने दिल,
और लोगो को लगा की बदल गए हम.


रात गुमसुम हैं मगर चाँद खामोश नहीं,
कैसे कह दूँ फिर आज मुझे होश नहीं,
ऐसे डूबा तेरी आँखों के गहराई में आज,
हाथ में जाम हैं,मगर पिने का होश नहीं|



जब भी उनकी गली से गुज़रते है,
मेरी आँखें एक दस्तक दे देती है,
दुःख ये नहीं वो दरवाजा बंद कर देते है
ख़ुशी ये है की मुझे पहचान लेते है|


वफ़ा का दरिया कभी रुकता नही,
इश्क़ में प्रेमी कभी झुकता नही,
खामोश हैं हम किसी के खुशी के लिए,
ना सोचो के हमारा दिल दुःखता नहीं|


भले ही किसी गैर की जागीर थीं वो,
पर मेरे ख्वाबों की भी तस्वीर थीं वो,
मुझे मिलती तो कैसे मिलती,
किसी और की हिस्से की तक़दीर थीं वो|


मिट्टी मेरी कब्र से चुरा रहा है कोई,
मर कर मेरे दिल बहुत याद आ रहा है कोई,
एक पल की ज़िन्दगी और देदे ऐ खुदा,
मायूस मेरी कब्र से जा रहा है कोई|



दो कदम तो सब चल लेते हैं पर ,
ज़िन्दगी भर साथ कोई नहीं निभाता ,
अगर रो कर भूल जाती यादें ,
तो हस कर कोई गम न छुपाता .

5

बहुत आसान है जमाने में जनम लेना,
बड़ी मुश्किल है एक उम्र तक जीवन जीना,
हम तो खामोश हैं तेरी ही खामोशी से,
तुमसे ही सीखा है हमने आंसू पीना..


आज भीगी है पलके किसी की याद में
आकाश भी सिमट गया हैं अपने आप में
ओस की बूँद ऐसी गिरी है ज़मीन पर
मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में.…


एक दर्द है जो दिल से जाता नहीं,
यही वजह है कि हमें तेरी याद आती है,
लो सुबह आ गई, तू रातभर रुलाती रही,
बेखुदी में ही ये रात भी कट जाती है!
सुप्रभात


बादलों से कह दो,
जरा सोच समझ के बरसे,
अगर हमें उसकी याद आ गई,
तो मुकाबला बराबरी का होगा|



हद से ज्यादा खुशी और हद से ज्यादा गम किसी को मत बताओ ॥
जिन्दगी में लोग हद से ज्यादा खुशी पर “नजर” और
हद से ज्यादा गम पर “नमक” जरूर लगाते हैं॥



इन आंखो मे आंसू आये न होते,
अगर वो पीछे मुडकर मुस्कुराये न होते,
उनके जाने के बाद बस यही गम रहेगा,
कि काश वो हमारी ज़िन्दगी मे आये न होते।



आज तेरी याद सीने से लगा कर हम रोये,
तन्हाई में तुझे पास बुला कर हम रोये,
कई बार पुकारा इस दिल ने तुम्हें,
हर बार तुम्हें ना पाकर हम रोये।



दिल की बात छुपाना आता नही,
किसी का दिल दुखाना आता नही,
आप सोचते है हम भूल गए आपको,
पर कुछ अच्छे दोस्तो को भूलना हमको आता नही.



मेहफिल मैं कुछ तो सुनाना पडता है,
ग़म छुपाकर मुस्कुराना पडता है,
कभी उनके हम भी थे दोस्त,
आज कल उन्हे याद दिलाना पडता है।



जब खामोश आँखो से बात होती है
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं
पता नही कब दिन और कब रात होती है



किसने कहा आपकी याद नही आती,
बिना याद किये कोई रात नही जाती,
वक्त बदल जाता है, आदत नही जाती,
आप खास हो, ये बात हर बार तो कही नही जाती।



हम जुदा हुए थे फिर मिलने के लिये,
ज़िंदगी की राहों में संग चलने के लिये,
तेरे प्यार की कशिश दिल में बसी है कुछ ईस क़दर,
दुआ है तेरा साथ मिले ज़रा संभलने के लिये।



जब जब याद करोगी अपनी तन्हाईयो को,
एक जलता चराग सा नज़र आऊगा मैं
राह से रहगुज़र बन के भी गुजर जाओगी,
एक मिल का पत्थर सा खड़ा नज़र आऊगा मैं..



तुम्हारे प्यार की दास्तां हमने अपने दिल में लिखी है,
न थोड़ी न बहुत बे-हिसाब लिखी है,
किया करो कभी हमे भी अपनी दुआओं में शामिल,
हमने अपनी हर एक सांस तुम्हारे नाम लिखी है!

Sent By : 

याद करेंगे तो दिन से रात हो जायेगी,
आईने में देखिये खुद को हमसे बात हो जायेगी,
शिकवा न करीये हमसे मिलने का,
आँखे बंद करीये मुलाकात हो जायेगी.



जाने उस शख्स को कैसे ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है,
मैं उस के खयालो से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है।



कितनी जल्दी ज़िन्दगी गुज़र जाती है,
प्यास भुझ्ती नहीं बरसात चली जाती है,
तेरी याद कुछ इस तरह आती है,
नींद आती नहीं मगर रात गुज़र जाती है।



उनका हाल भी कुछ आप जैसा ही होगा,
आपका हाले दिल उन्हें भी महसूस होगा,
बेकरारी की आग में जो जल रहे हैं आप,
आपसे ज्यादा उन्हें इस जलन का एहसास होगा।



जो नजरो का हुआ मिलना लब तेरे भी मुस्कुराये थे,
ईश्क के हर जूर्म में मेरे तेरी मोहोब्बत के साये थे,
मेरी हर रात में सजनी तेरी सेजो के साये थे,
रात को ख्वाब में मेरे ख्वाब तेरे मिलने आये थे।


कल उसकी याद पूरी रात आती रही,
हम जागे पूरी दुनिया सोती रही,
आसमान में बिजली पूरी रात होती रही,
बस एक बारिश थी जो मेरे साथ रोती रही!


वो न आए उनकी याद वफ़ा कर गई,
उनसे मिलने की चाह सुकून तबाह कर गई,
आहट दरवाज़े की हुई तो उठकर देखा,
मज़ाक हमसे हवा कर गई!



प्यार करने का हुनर हमें नहीं आता,
इसलिए प्यार की बाज़ी हम हार गए,
हमारी ज़िन्दगी से उन्हें बहुत प्यार था,
सायद इसलिए हमे ज़िंदा ही मार गए!



आज हम उनको बेवफा बताकर आए है,
उनके खतो को पानी में बहाकर आए है,
कोई निकाल न ले उन्हें पानी से..
इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए है।



वो बेवफा हमारा इम्तेहा क्या लेगी,
मिलेगी नज़रो से नज़रे तो अपनी नज़रे ज़ुका लेगी,
उसे मेरी कबर पर दीया मत जलाने देना,
वो नादान है यारो.. अपना हाथ जला लेगी।



मेरी बर्बादी पर तू कोई मलाल ना करना,
भूल जाना मेरा ख्याल ना करना,
हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे,
पर तुम मेरी लाश ले कोई सवाल मत करना!



रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हम ने,
कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हमने,
हाँ मालूम है क्या चीज़ हैं मोहब्बत यारो,
अपना ही घर जला कर देखें हैं उजाले हमने।



दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया,
दिल के सोदागरो से दिललगी कर बैठे,
शायद इसीलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया।



मेरी चाहत ने उसे खुशी दे दी,
बदले में उसने मुझे सिर्फ खामोशी दे दी,
खुदा से दुआ मांगी मरने की लेकिन,
उसने भी तड़पने के लिए जिन्दगी दे दी!



नादान इनकी बातो का एतबार ना कर,
भूलकर भी इन जालिमो से प्यार ना कर,
वो क़यामत तलक तेरे पास ना आयेंगे,
इनके आने का नादान तू इन्तजार ना कर!



हाथ पकड़ कर रोक लेते अगर,
तुझ पर ज़रा भी ज़ोर होता मेरा,
ना रोते हम यूँ तेरे लिये..
अगर हमारी ज़िन्दगी में तेरे सिवा कोई ओर होता.



काश उन्हें चाहने का अरमान नही होता,
में होश में होकर भी अंजान नही होता,
ये प्यार ना होता, किसी पत्थर दिल से,
या फिर कोई पत्थर दिल इंसान ना होता!



बहुत महँगी हुई अब तो वफा..
लोग कहाँ मिलते हैं, जो सच्चा प्यार करें
मोहब्बत तो बन गई है अब सजा..
आशिक कहाँ मिलते हैं, जो संग-संग इश्क का दरिया पार करें!



खुदा ने जब इश्क़ बनाया होगा,
तो खुद आज़माया होगा,
हमारी तो औकात ही क्या है,
इस इश्क़ ने खुदा को भी रुलाया होगा !!



कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,
चलो ऐसा करो भूला दो मुझको,
तुमसे बिछडु तो मौत आ जाये,
दिल की गहराई से ऐसी दुआ दो मुझको!


कोई छुपाता है, कोई बताता है,
कोई रुलाता है, तो कोई हंसाता है,
प्यार तो हर किसी को ही किसी न किसी से हो जाता है,
फर्क तो इतना है कि कोई अजमाता है और कोई निभाता है!



दिल से रोये मगर होंठो से मुस्कुरा बेठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बेठे,
वो हमे एक लम्हा न दे पाए अपने प्यार का,
और हम उनके लिये जिंदगी लुटा बेठे!



गुजारिश हमारी वह मान न सके,
मज़बूरी हमारी वह जान न सके,
कहते हैं मरने के बाद भी याद रखेंगे,
जीते जी जो हमें पहचान न सके.



हम सिमटते गए उनमें और वो हमें भुलाते गए..
हम मरते गए उनकी बेरुखी से, और वो हमें आजमाते गए ..
सोचा की मेरी बेपनाह मोहब्बत देखकर सीख लेंगी वफाएँ करना ..
पर हम रोते गए और वो हमें खुशी-खुशी रुलाते गए..!



हकीकत जान लो जुदा होने से पहले,
मेरी सुन लो अपनी सुनाने से पहले,
ये सोच लेना भूलने से पहले,
बहुत रोई हैं ये आँखें मुस्कुराने से पहले.



इश्क़ सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पर मरना सीखा देता है,
इश्क़ नहीं किया तो करके देखो,
ज़ालिम हर दर्द सहना सीखा देता है!



उनकी मोहब्बत का अभी निशान बाकी हैं,
नाम लब पर हैं मगर जान अभी बाकी हैं,
क्या हुआ अगर देख कर मूंह फेर लेते हैं वो..
तसल्ली हैं कि अभी तक शक्ल कि पहचान बाकी हैं!



न वो आ सके न हम कभी जा सके,
न दर्द दिल का किसी को सुना सके,
बस बैठे है यादों में उनकी,
न उन्होंने याद किया और न हम उनको भुला सके !



दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया,
खाली ही सही हाथों में जाम तो आया,
मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही, उसके लबों पे मेरा नाम तो आया।



हम सिमटते गए उनमें और वो हमें भुलाते गए,
हम मरते गए उनकी बेरुखी से, और वो हमें आजमाते गए,
सोचा की मेरी बेपनाह मोहब्बत देखकर सीख लेंगी वफाएँ करना,
पर हम रोते गए और वो हमें खुशी खुशी रुलाते गए..!!


अनजाने में यूँ ही हम दिल गँवा बैठे,
इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे,
उनसे क्या गिला करें.. भूल तो हमारी थी
जो बिना दिलवालों से ही दिल लगा बैठे।



टूटा हो दिल तो दुःख होता है,
करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है,
दर्द का एहसास तो तब होता है,
जब किसी से मोहब्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है।



तेरे प्यार का सिला हर हाल में देंगे,
खुदा भी मांगे ये दिल तो टाल देंगे,
अगर दिल ने कहा तुम बेवफ़ा हो,
तो इस दिल को भी सीने से निकाल देंगे।



एक दिन हम आपसे इतने दूर हो जायेंगे,
के आसमान के इन तारो में कही खो जायेंगे,
आज मेरी परवाह नहीं आपको,
पर देखना एक दिन हद से ज्यादा.. हम आपको याद आएंगे!!



कदम कदम पर बहारो ने साथ छोडा,
जरुरत पडने पर यारो ने साथ छोडा,
बादा किया सितारोँ ने साथ निभाने का,
सुबह होने सितारो ने साथ छोडा.



हमने भी किसी से प्यार किया था,
हाथो मे फूल लेकर इंतेज़ार किया था,
भूल उनकी नही भूल तो हमारी थी,
क्यों की उन्हो ने नही, हमने उनसे प्यार किया था..!!

Sent By : 

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,
औरों को तो क्या हमको भी तबाह किया,
पेश किया जब ग़ज़लों में हमने उनकी बेवफ़ाई को,
औरों ने तो क्या उन्होने भी वाह-वाह किया.

Sent By : 

वो हमें भूल भी जायें तो कोई गम नहीं,
जाना उनका जान जाने से भी कम नहीं,
जाने कैसे ज़ख़्म दिए हैं उसने इस दिल को,
कि हर कोई कहता है कि इस दर्द की कोई मरहम नहीं।

Sent By : 

आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए,
महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए!

Sent By : 

उसके चले जाने के बाद..
हम महोबत नहीं करते किसी से..
छोटी सी जिन्दगी है..
किस किस को अजमाते रहेंगे|



क्या अजीब सी ज़िद है..
हम दोनों की,
तेरी मर्ज़ी हमसे जुदा होने की..
और मेरी तेरे पीछे तबाह होने की..



हम तो जल गये उसकी मोहब्बत में
मोमकी तरह,
अगर फिर भी वो हमें बेवफा कहे…तो
उसकी वफ़ा को सलाम..



आज अचानक तेरी याद ने मुझे रुला दिया,
क्या करू तुमने जो मुझे भुला दिया,
न करती वफ़ा न मिलती ये सजा,
शायद मेरी वफ़ा ने ही तुझे बेवफा बना दिया।



रास्ता ऐसा भी दुशवार न था,
बस उसको हमारी चाहत पे ऐतबार न था,
वो चल न सकी हमारे साथ वरना,
हमे तो जान देने से भी इनकार न था.



फ़ुलो के साथ कांटे नसिब होते है,
खुषी के साथ गम भी नसिब होता है,
यु तो मजबुरी ले डुबती हर आशिक को,
वरना खुषी से बेवफ़ा कौन होता है?


जो हुकुम करता है, वो इल्तज़ा भी करता है,
आसमान कही झुका भी करता है,
और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले,
इन्तेज़ार मेरा कोई वहा भी करता है.



मेरी वफा के क़ाबिल नही हो तुम,
प्यार मिले ऐसे इन्सान नही हो तुम,
दिल क्या तुम पर ऐतबार करेगा,
प्यार मे धोखा दिया ऐसे बेवफा हो तुम.



दिल का दर्द युँ लफ़्ज़ों में बयाँ करते ही नहीं,
तेरी तसवीर आँखों से न बह जाये इसलिये रोते ही नहीं,
तेरे इश्क़ का जुनुँ छाया है इस क़दर,
ज़िंदा हैं ईसी ग़ुमान में वर्ना हम होते ही नहीं।

Comments

Popular posts from this blog

Best Urdu shayari On Love

Urdu Shayari On Love: उर्दू शायरी ऑन लव
Urdu Shayari On Love is a rich tradition of Shayari and has many different forms. Today, it is an important part of the cultures of India and the rest of the world. According to our knowledge, there are five main shayar of Shayari which are Mir Taqi Mir, Mirza Ghalib, Mir Anees, Allama Iqbal, and Josh Malihabadi.
All in one a huge collection of latest UrduShayari On Love means उर्दू शायरी ऑन लवलिखा हुआ or medium of human communication Shayari is a good way to express your feeling to front of your love and poetry Shayari      has earned a good reputation among Urdu speaking people due to the great poem, Sad Shayari On Love, friendship Shayariand Urdu quotes and many more.
Urdu Shayari On Love Tu Guzar Jaye Karib se Wo Bhi Mulaqat Se Kam Nahi.... Kuch To Socha Hoga Kayanaat Ne Tere Mere Rishte Par, Warna Itni Badi Dunia MeTujhse Hi Baat Kyu Hoti... 2 Line Urdu shayari On Love  Humne Jisko Chaaha Usko Naa Paaya,
Tumne Humko Chaaha,
Tumne Kya Paaya ?

101 Ideas For SAD QUOTATION IN HINDI

Sad Quotation In Hindi : दुखद उद्धरण हिंदी में.Sad Quotation In Hindi is a rich tradition of Shayari and has many different forms. Today, it is an important part of the cultures of India and the rest of the world. According to our knowledge, there are five main shayar of shayari which are Mir Taqi Mir, Mirza Ghalib, Mir Anees, Allama Iqbal, and Josh Malihabadi.
All in one a huge collection of latest Quotation In Hindimeans दुखद उद्धरण हिंदी में लिखा हुआ or medium of human communication Shayari  is a good way to express your feeling to front of your love and poetry and Quotation In Hindi has earned a good reputation among Urdu speaking people due to the great  Sad Quotation friendship Shayariand Urdu quotes and many more.

Sad Quotation In Hindi Naye Rishte Jo Na Ban Payein Toh
Malaal Mat Karna,
Puraane Tootne Na Payein Bas Itna
Khyaal Rakhna..
 Hindi Sad Quotation Raat bhar jaag kar sab
kuch bhulaya,
Dil jab toota tab sala
dost hi yaad Aaya..!  2 Line Sad Quotation In Hindi Kamal Ka …

Top 50 Quotes On Happy Birthday Shayari 2020

Happy Birthday shayari :हिंदी में हैप्पी बर्थडे शायरी
Happy Birthday, Shayari: Looking Best Bday Shayari, We are providing Large Collection of Latest Shayari. I hope you liked this happy birthday Shayari in Shayari. Happy Birthday, Shayari In English, Shayari is a form of poetry, that allows a person to express his deep feelings from the bottom of the heart through words. You will get all the Latest and updated collection of Happy Birthday Shayari Hindi 140 Words. Choose your favorite Shayari and share it. You can also use this Shayari as Happy Birthday Status andQuotes.

You would just like these “हिंदी में हैप्पी बर्थडे शायरी” SMS Messages once you read all through this. So Friends, Share this Sayri on Whatsapp and Facebook. Funny Happy Birthday Shayari For FriendHappy Birthday Shayari In Hindi For Brother, Happy Birthday Shayari Gujarati, Happy Birthday Shayari Marathi Keep Visit and enjoy Shayri Collection.

Happy Birthday Shayari For love ones

खुदा बुरी नज़र से बचाए आप को,
चाँद सि…